भयानक रस की परिभाषा- Bhayanak ras ki paribhasha

भारतीय साहित्य में रसों का विशेष महत्व है। भारतीय साहित्यकारों ने विभिन्न भावनाओं और भावों को व्यक्त करने के लिए विभिन्न रसों का सहारा लिया है। भयानक रस भी इनमें से एक है, जो रसों की राजधानी माना जाता है। इस लेख में, हम भयानक रस की परिभाषा, इसके विशेषताएँ, और भयानक रस के प्रमुख उदाहरणों को विस्तार से देखेंगे।

भयानक रस की परिभाषा

भयानक रस, भारतीय साहित्य में भावनाओं का एक विशेष प्रकार है जिससे भय और आतंक की भावना प्रकट होती है। इस रस के माध्यम से लेखक या कवि भयानक वातावरण तैयार करते हैं जिससे पाठक के मन में भय की भावना उत्पन्न होती है। भयानक रस से संबंधित भावों को व्यक्त करने के लिए लेखक भयानक वर्णनात्मक शब्दों, समाचारों, और घटनाओं का उपयोग करते हैं ताकि पाठक का ध्यान खींचा जा सके।

भयानक रस की विशेषताएँ

भयानक रस के कुछ मुख्य विशेषताएँ हैं:

आतंकजनक भावना का उत्पन्न होना

भयानक रस के उदाहरणों में आतंकजनक भावना का उत्पन्न होना सामान्य है। पाठक इस रस के माध्यम से घटनाओं के साथ जुड़ जाता है और उन्हें पुरस्कृत करने की इच्छा होती है।

भयानक वर्णनात्मक शब्दों का उपयोग

लेखक भयानक रस को प्रस्तुत करते समय भयानक वर्णनात्मक शब्दों का उपयोग करते हैं जो पाठक के मन में भय की भावना को उत्पन्न करते हैं। इससे उनके विचारों पर गहरा प्रभाव पड़ता है।

भयानक रस के उदाहरण

भूतपूर्व संसार का भयानक दृश्य

एक अंधेरे जंगल में घुसपैठिए और आतंक के माहौल से भरे हुए भूतपूर्व संसार का भयानक दृश्य वाकई भयानक होता है। रात के अंधेरे में आवाज़ और अनजानी छायाएँ देखकर ह्रदय धड़कने लगता है।

भय की दस्तक

दरवाजे पर दस्तक, और फिर उसका खुलना। यह अनजाने आगंतुक के लिए भयानक होता है क्योंकि वह नहीं जानता कि उसे कौन और क्यों ढूंढ रहा है।

भयानक रस का महत्व

भयानक रस भारतीय साहित्य में एक महत्वपूर्ण रस है जो उपन्यास, कहानियाँ, और काव्य आदि में प्रयोग होता है। यह रस पाठक की भावनाओं के साथ संवाद स्थापित करके उन्हें कहानी में खींचता है और उन्हें कथा का हिस्सा बनाता है।

समाप्ति

भयानक रस भारतीय साहित्य में अन्य रसों के साथ मिलकर एक अद्भुत संगम है। इस रस के माध्यम से लेखक अपनी रचनाओं में भयानक वातावरण को सृजित कर पाठक की भावनाओं के साथ खिलवाड़ करते हैं। यह रस पाठक के मन में एक अविस्मरणीय प्रभाव छोड़ता है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

1. भयानक रस क्या है?

भयानक रस भारतीय साहित्य में भावनाओं का एक विशेष प्रकार है जिससे भय और आतंक की भावना प्रकट होती है।

2. भयानक रस के क्या विशेषताएँ हैं?

भयानक रस की कुछ मुख्य विशेषताएँ हैं जैसे कि आतंकजनक भावना का उत्पन्न होना और भयानक वर्णनात्मक शब्दों का उपयोग।

3. भयानक रस का महत्व क्या है?

भयानक रस भारतीय साहित्य में एक महत्वपूर्ण रस है जो पाठक की भावनाओं के साथ संवाद स्थापित करके उन्हें कथा में खींचता है और उन्हें कहानी का हिस्सा बनाता है।

4. भयानक रस के उदाहरण क्या हैं?

भयानक रस के उदाहरणों में भूतपूर्व संसार का भयानक दृश्य और भय की दस्तक शामिल हो सकते हैं।

5. भयानक रस को व्यक्त करने के लिए कौन-कौन से शैली तकनीकें प्रयोग की जाती हैं?

लेखक भयानक रस को व्यक्त करने के लिए भयानक वर्णनात्मक शब्दों का उपयोग करते हैं जो पाठक के मन में भय की भावना को उत्पन्न करते हैं।

Leave a Comment