बाजीराव पेशवा- Bajirao peshwa history in hindi

प्राचीन भारतीय इतिहास में कई महान व्यक्तियों ने अपने योगदानों से देश की महिमा को बढ़ाया है। इनमें से एक नाम है बाजीराव पेशवा, जो भारतीय इतिहास के विभिन्न पहलुओं में एक महत्वपूर्ण स्थान रखते हैं। उनका समय 18वीं सदी में मराठा साम्राज्य की उन्नति के लिए एक महत्वपूर्ण योगदानकर्ता रहा है। इस लेख में, हम बाजीराव पेशवा के जीवन और उनके योगदान को विस्तार से जानेंगे।

जीवनी

बचपन के वर्ष

बाजीराव पेशवा का जन्म 18 अप्रैल, 1700 को पुणे में हुआ था। उनके पिता का नाम बालाजी विश्वनाथ था, जो कीर्तिमानी शिर्डीकर थे और मराठा साम्राज्य के प्रमुख पंडित थे।

शिक्षा और उपाधि

बाजीराव को उनके पिता बालाजी विश्वनाथ और दादी राधाबाई के प्रभाव में एक उत्कृष्ट शिक्षा मिली। वे शास्त्रों में विशेष रूचि रखते थे और उन्हें विद्वान बनाया गया था। बाजीराव ने शिक्षा पूरी करने के बाद विभिन्न प्रशिक्षण कार्यक्रमों में भाग लिया और उन्हें बुद्धिजीवी के रूप में पहचाना गया।

पेशवा के पद पर उन्नति

बाजीराव के पिता की मृत्यु के बाद, उन्हें बालाजी विश्वनाथ की जगह पेशवा के पद पर बैठाया गया। इस समय पर मराठा साम्राज्य अपने संपूर्ण शक्ति के साथ उन्नति के रास्ते में था। बाजीराव ने अपने पेशवा कार्यकाल में सम्राट शाहू के साथ मिलकर राज्य के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया।

योगदान

साम्राज्य का विकास

बाजीराव पेशवा ने मराठा साम्राज्य को उन्नति के नए शिखर तक पहुंचाया। उन्होंने सम्राट शाहू के साथ मिलकर विभिन्न राजनीतिक और सामाजिक सुधार किए और साम्राज्य को सशक्त बनाने के लिए कई प्रोत्साहनीय कदम उठाए।

न्यायपालिका का सुधार

बाजीराव पेशवा ने न्यायपालिका को सुधारने के लिए भी कई पहल किए। उन्होंने न्यायिक प्रक्रिया में सुधार किया और न्यायिक निकायों को सकारात्मक रूप से संचालित किया।

विरासत और महत्वपूर्ण घटनाएँ

पृथ्वीराज चौहान के प्रति भक्ति

बाजीराव पेशवा अपने धार्मिक भावनाओं के कारण पृथ्वीराज चौहान के प्रति अत्यंत भक्ति रखते थे। उन्होंने पृथ्वीराज चौहान के सम्मान में कई स्मारक बनवाए और उनके युद्ध की कथाएँ गाने के लिए कवियों को प्रोत्साहित किया।

समाप्ति

बाजीराव पेशवा भारतीय इतिहास में एक महान व्यक्तित्व थे जिनके योगदान ने मराठा साम्राज्य को एक ऊंचाई तक पहुंचाया। उनके धैर्य, न्यायप्रिय और समर्पित चरित्र ने लोगों के दिलों में जगह बनाई। उनके समय में भारतीय समाज में बहुत से सुधार हुए और उन्होंने देश के सामाजिक और आर्थिक विकास के लिए कई कदम उठाए।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

  1. पेशवा कौन थे और उनका योगदान क्या था?

पेशवा मराठा साम्राज्य के शीर्ष सरकारी पद का धारक था। बाजीराव पेशवा ने मराठा साम्राज्य को विकास के नए शिखर तक पहुंचाया और न्यायपालिका में सुधार किया।

  1. बाजीराव पेशवा का जन्म स्थान कहां हुआ था?

बाजीराव पेशवा का जन्म 18 अप्रैल, 1700 को पुणे में हुआ था।

  1. बाजीराव पेशवा के पिता का नाम क्या था?

बाजीराव पेशवा के पिता का नाम बालाजी विश्वनाथ था।

  1. बाजीराव पेशवा ने किस विद्वान के प्रभाव में शिक्षा प्राप्त की थी?

बाजीराव पेशवा ने उनके पिता बालाजी विश्वनाथ और दादी राधाबाई के प्रभाव में उच्च शिक्षा प्राप्त की थी।

  1. बाजीराव पेशवा ने मराठा साम्राज्य के विकास में कौन-कौन से कदम उठाए?

बाजीराव पेशवा ने मराठा साम्राज्य के विकास के लिए न्यायपालिका को सुधारा और सम्राट शाहू के साथ मिलकर राज्य के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया।

Leave a Comment