टेहरी बांध परियोजना- Tehri bandh pariyojna

टेहरी बांध परियोजना भारतीय राज्य उत्तराखंड में स्थित एक महत्वपूर्ण सूचना है। इस लेख में, हम इस परियोजना के बारे में गहराई से जानेंगे जो भारतीय समृद्धि और विकास की दिशा में कदम बढ़ाती है।

उद्देश्य

इस अनुभाग में हम टेहरी बांध परियोजना के उद्देश्यों पर चर्चा करेंगे।

मुख्य उद्देश्य

टेहरी बांध परियोजना का प्रमुख उद्देश्य जल और विद्युत आपूर्ति को सुनिश्चित करना है।

अन्य उद्देश्य

  1. पानी का संचयन: प्राकृतिक संसाधनों को संरक्षित करने के लिए पानी का संचयन करना।
  2. जलवायु सुरक्षा: बांध के माध्यम से जलवायु परिवर्तन के प्रति सुरक्षितता प्रदान करना।

परियोजना के लाभ

इस अनुभाग में, हम टेहरी बांध परियोजना के लाभों पर विचार करेंगे।

विद्युत उत्पादन

टेहरी बांध से उत्पन्न विद्युत का उपयोग घरेलू और औद्योगिक उद्देश्यों के लिए होता है।

पानी की आपूर्ति

बांध द्वारा निर्मित सागर में पानी का संचयन होता है, जो कृषि और पीने के पानी की आपूर्ति में सुधार करता है।

समर्थन और विरोध

इस अनुभाग में, हम टेहरी बांध परियोजना के समर्थन और विरोध के पक्षों को देखेंगे।

समर्थन

टेहरी बांध परियोजना के पक्ष में उन्नति, विकास, और विद्युत आपूर्ति में वृद्धि का समर्थन किया जाता है।

विरोध

कुछ लोग इस परियोजना के प्रभावों के प्रति चिंतित हैं, जैसे कि इससे पर्यावरण पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है।

समापन

टेहरी बांध परियोजना एक महत्वपूर्ण कदम है जो भारत को सुरक्षितता, विकास, और विद्युत आपूर्ति की दिशा में आगे बढ़ने में मदद करेगा। इस परियोजना के सकारात्मक लाभों के साथ, हमें पर्यावरण संरक्षण के महत्व को भी ध्यान में रखना आवश्यक है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

1. टेहरी बांध परियोजना क्या है?

उत्तर: टेहरी बांध परियोजना भारतीय राज्य उत्तराखंड में स्थित एक महत्वपूर्ण जलाशय परियोजना है जो जल और विद्युत आपूर्ति को सुनिश्चित करने का उद्देश्य रखती है।

2. इस परियोजना के लाभ क्या हैं?

उत्तर: इस परियोजना से विद्युत उत्पादन, पानी की आपूर्ति में सुधार, और जलवायु सुरक्षा के लाभ होते हैं।

3. क्या इस परियोजना के खिलाफ विरोध है?

उत्तर: हां, कुछ लोगों का मानना है कि इस परियोजना से पर्यावरण को नुकसान हो सकता है।

4. टेहरी बांध परियोजना का उद्देश्य क्या है?

उत्तर: इस परियोजना का प्रमुख उद्देश्य जल और विद्युत आपूर्ति को सुनिश्चित करना है, साथ ही जलवायु सुरक्षा भी प्रदान करना है।

5. टेहरी बांध परियोजना कितने समय तक पूरी हुई?

उत्तर: टेहरी बांध परियोजना का निर्माण 1978 से लेकर 2006 तक हुआ था।

Leave a Comment