जैसलमेर का इतिहास- Jaisalmer history in hindi

भारत के पश्चिम राजस्थान में स्थित जैसलमेर शहर, उसके बेहद सुंदर समृद्ध इतिहास से भरपूर है। यह शहर अपनी विशेष पारंपरिक संस्कृति और महाराजा महलों के लिए प्रसिद्ध है।

जैसलमेर की स्थापना

जैसलमेर का नाम राजा जैसल सिंह द्वारा रखा गया था, जो जैन धर्म के अनुयायी थे। वर्ष 1156 ईसा में उन्होंने जैसलमेर की स्थापना की थी।

सोनार किला: जैसलमेर का गहना

सोनार किला जैसलमेर के प्रमुख आकर्षणों में से एक है, जिसे ‘सोनार’ के नाम से भी जाना जाता है। इसका निर्माण पत्थरों से किया गया था और यह जैसलमेर की वास्तुकला का प्रतीक है।

महारावलों के महल

जैसलमेर में महारावलों के गर्मियों के महल भी महत्वपूर्ण आकर्षण हैं। इन महलों का निर्माण स्थानीय पत्थरों से किया गया और उनमें भव्य शिल्पकला देखने को मिलती है।

जैन मंदिर: धार्मिकता की अद्वितीयता

जैसलमेर में विशेष रूप से जैन मंदिरों की विशेषता है। यहाँ के जैन मंदिर उनकी शिल्पकला और धार्मिक महत्व की दृष्टि से महत्वपूर्ण हैं।

जैसलमेर की खासियत: कुचामन का उत्सव

कुचामन का उत्सव जैसलमेर में मनाया जाता है जो शहर की संस्कृति और परंपराओं का प्रदर्शन करता है। यह उत्सव राजस्थानी गाने, नृत्य, खानपान और गहनों की प्रदर्शनी के रूप में मनाया जाता है।

आकर्षणों की सुंदरता

जैसलमेर के आकर्षणों में विशेष रूप से हवेलियाँ शामिल हैं, जिनकी वास्तुकला और डिज़ाइन दर्शनीय है। ये हवेलियाँ अपनी अद्वितीयता के लिए प्रसिद्ध हैं।

जैसलमेर रेल सफर: एक यादगार अनुभव

जैसलमेर में रेल सफर भी एक यादगार अनुभव होता है। रेलवे स्टेशन का विशेष आकर्षण और उसकी सुंदरता दर्शनीय होती है।

समुद्र की रेगिस्तान में जोढ़ी जैसलमेर

जैसलमेर के चारों ओर विस्तृत रेगिस्तान की दृश्यमान सुंदरता अद्वितीय है। यहाँ की खास रेगिस्तानी संस्कृति और जीवनशैली भी आकर्षण है।

जैसलमेर का खानपान

जैसलमेर का स्थानीय खानपान भी उसकी विशेषता में एक हिस्सा है। मिर्ची वाली मसालेदार सब्जियाँ और मिठे मिठासे भरपूर मिठाइयाँ यहाँ के खानपान की विशेषताएँ हैं।

नक्काशी कला: पत्थरों पर जीवंत चित्र

जैसलमेर में नक्काशी कला अपनी विशेष पहचान रखती है। यहाँ के कलाकार पत्थरों पर खूबसूरत जीवंत चित्र बनाने में माहिर हैं।

जैसलमेर का सैलानियों से संबंध

जैसलमेर सैलानियों के बीच एक महत्वपूर्ण स्थान रखता है। उनकी परंपरागत जीवनशैली और संगीत यहाँ के सांस्कृतिक विविधता का हिस्सा है।

जैसलमेर में वर्षा की अद्वितीयता

जैसलमेर एक बारिश कम प्रांत होने के बावजूद वर्षा की अद्वितीयता के लिए प्रसिद्ध है। यहाँ की बारिश का आगमन एक खास उत्सव के रूप में मनाया जाता है।

जैसलमेर की रेगिस्तानी नृत्य परंपरा

जैसलमेर की रेगिस्तानी नृत्य परंपरा उसकी सांस्कृतिक धरोहर का हिस्सा है। यहाँ के लोग रेगिस्तानी नृत्यों के माध्यम से अपनी सांस्कृतिक विरासत को जीवंत रखते हैं।

जैसलमेर का विविध परिदृश्य

जैसलमेर का रेगिस्तान, किले, महल और विविध आकर्षणों का संगम यहाँ की प्राकृतिक सौंदर्य को और भी आकर्षक बनाता है।

समापन

जैसलमेर एक वास्तविक भारतीय रत्न है, जो अपने रेगिस्तानी सौंदर्य, समृद्ध इतिहास और सांस्कृतिक विविधता से परिपूर्ण है। यहाँ की खासियतें और अनूठापन भारतीय शहरों में एक विशेष स्थान बनाते हैं।

अकेले जैसलमेर में क्या करें?

यदि आप जैसलमेर में अकेले हैं तो आपको सोनार किले की दीवारों पर सैर करना न भूलें। यहाँ की रेगिस्तानी नृत्य परंपरा का आनंद लें और महाराजा महल में शान्ति ढूंढें।

परिणाम

जैसलमेर का इतिहास और सांस्कृतिक धरोहर भारतीय सभ्यता की अमूल्य धरोहर हैं। इस शहर की रेगिस्तानी सौंदर्य और ऐतिहासिक महत्व की कहानी हर यात्री को मोहित करती है।

अकेले जैसलमेर के लिए

  1. जैसलमेर के पास आने का सबसे अच्छा समय क्या है?
    • जैसलमेर को विंटर सीजन (नवम्बर से फरवरी) में आना अच्छा होता है, जब तापमान शीतल होता है।
  2. क्या जैसलमेर में शॉपिंग के लिए कुछ खास है?
    • हां, जैसलमेर में आप स्थानीय कला-क्रांतियाँ, पत्थर की नक्काशी, रेगिस्तानी कपड़े और सौंदर्य उत्पादों की खरीदारी कर सकते हैं।
  3. जैसलमेर के लिए सार्वजनिक परिवहन कैसे है?
    • जैसलमेर में सार्वजनिक परिवहन के अनुभाग मंडी यार्ड और सिटी बसेस से उपलब्ध हैं, लेकिन यातायात बसों की समय सारणी को ध्यान में रखें।
  4. जैसलमेर में क्या खाने के लिए विशेषता है?
    • जैसलमेर में प्याज की कचौड़ी, दाल बाटी चूरमा, करेले की सब्ज़ी और सवादिक खानपान का आनंद उठाएं।
  5. जैसलमेर के निकटतम हवाई अड्डा क्या है?
    • जैसलमेर के निकटतम हवाई अड्डा जैसलमेर हवाई अड्डा है, जो शहर से करीब 13 किलोमीटर दूर स्थित है।

Leave a Comment