खजुराहो मंदिर का इतिहास- Khajuraho temple history in hindi

भारत देश अपने ऐतिहासिक मंदिरों के लिए विख्यात है, जिनमें खजुराहो मंदिर एक प्रमुख स्थल है। यह भगवान शिव और विष्णु की पूजा के लिए विशेष महत्व रखता है। यहां के मंदिर न केवल भारत में बल्कि पूरे विश्व में इतिहास, कला और संस्कृति के प्रशंसकों के लिए एक आकर्षण का केंद्र हैं। यह नागर शैली के मंदिर, उनकी शृंगार और विस्तारवादी स्थापत्य के लिए प्रसिद्ध हैं।

खजुराहो के स्थापत्य का इतिहास

खजुराहो के मंदिरों का निर्माण बुंदेलखंड के राजा धंगेका द्वारा १० वीं शताब्दी में किया गया था। इन मंदिरों का निर्माण भारतीय संस्कृति, शैली, और शृंगार की धारोहर के रूप में एक महत्वपूर्ण योगदान माना जाता है। इन मंदिरों की अद्भुत स्थापत्य की जानकारी वेद, पुराण और भारतीय कला साहित्य में भी प्राप्त होती है।

मंदिरों का संरचना और शैली

खजुराहो मंदिरों की संरचना और शैली नागर शैली में हैं। यहां के मंदिर शिखर वाले और बिना शिखर वाले दो प्रकार के होते हैं। सभी मंदिर एक विशेष संरचना में बनाए गए होते हैं जिसमें मुख्य गोपुरम, मंदप, अंतराला, और गर्भगृह शामिल होते हैं। यहां के मंदिरों की सजावट में अद्भुत शृंगार देखने को मिलता है जिससे यह विश्वभर में प्रसिद्ध हैं।

खजुराहो मंदिरों की महत्वपूर्ण कला

खजुराहो मंदिरों की दीवारों पर बने नक्काशी और उकिरण कला का महत्वपूर्ण योगदान है। यहां की सिलेब्रेटेड स्तंभ जिन्हें अंगूरी खंभी भी कहते हैं, विश्वभर में अद्भुत माने जाते हैं। इनमें दिए गए नक्काशी का सौंदर्य आकर्षित करता है जो आज भी इस कला की महत्वता को दर्शाता है।

खजुराहो मंदिरों का पौराणिक महत्व

खजुराहो मंदिरों के पीछे कई पौराणिक कथाएं जुड़ी हुई हैं। इनमें से कुछ मंदिर भारतीय धर्म और इतिहास के प्रमुख चरित्रों के साथ जुड़े हुए हैं। भक्तों के लिए खजुराहो मंदिर एक पवित्र स्थान हैं जो उन्हें धार्मिक आनंद का अनुभव करने का अवसर प्रदान करते हैं।

खजुराहो मंदिर और संस्कृति का संबंध

खजुराहो मंदिर और भारतीय संस्कृति के बीच गहरा संबंध है। यहां के मंदिरों के माध्यम से भारतीय संस्कृति की धरोहर को बचाए रखने का प्रयास किया जाता है। यहां के स्थापत्य, उकिरण, और नक्काशी कला का प्रचार-प्रसार होता है जो भारतीय संस्कृति को विश्व में प्रतिष्ठित बनाता है।

निष्कर्ष

खजुराहो मंदिर भारतीय संस्कृति के अमूल्य रत्नों में से एक हैं। इन मंदिरों के अद्भुत स्थापत्य, कला और पौराणिक महत्व के कारण वे विश्वभर में प्रसिद्ध हैं। इन मंदिरों के सौंदर्य और धार्मिक माहौल के चलते हर साल लाखों पर्यटक खजुराहो आकर इन्हें देखने आते हैं।

5 अद्भुत प्रश्न

1. खजुराहो मंदिर किस राज्य में स्थित है?

खजुराहो मंदिर मध्य प्रदेश राज्य, भारत में स्थित हैं।

2. खजुराहो मंदिर की निर्माण की तारीख क्या है?

खजुराहो मंदिरों का निर्माण लगभग १० वीं शताब्दी में हुआ था।

3. खजुराहो मंदिरों की शैली क्या है?

खजुराहो मंदिरों की शैली नागर शैली में हैं।

4. खजुराहो मंदिर का महत्व क्या है?

खजुराहो मंदिर भारतीय संस्कृति और कला के एक महत्वपूर्ण प्रतीक हैं।

5. खजुराहो मंदिर को कैसे पहुंच सकते हैं?

आप खजुराहो मंदिर तक पहुंचने के लिए रेल, बस या हवाई मार्ग से यात्रा कर सकते हैं।

Leave a Comment