क्रिया क्या है- Kriya kya hai

योग एक प्राचीन भारतीय विज्ञान है जिसका उद्देश्य शरीर, मन, और आत्मा के संतुलन को साधना करके शांति, स्वास्थ्य, और उन्नति की प्राप्ति करना है। योग के अंतर्गत कई प्रकार की क्रियाएँ हैं जिनमें आसन, प्राणायाम, ध्यान, और मुद्राएँ शामिल होती हैं। इस लेख में, हम “क्रिया क्या है” के विषय पर चर्चा करेंगे। क्रिया योग के माध्यम से हम अपने शरीर, मन, और आत्मा को सकारात्मकता और समृद्धि की ओर प्रवृत्ति कर सकते हैं।

क्रिया का महत्व

योग में क्रिया ध्यान की एक विशेष तकनीक है जो शरीर की विभिन्न भागों को जगाने और सक्रिय करने का काम करती है। क्रिया योग से हम अपने शरीर के अंगों, प्राणवायु, चक्रों, और तंत्र की शक्ति को जागृत करते हैं जो हमारे शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक विकास में मदद करते हैं। इसके अलावा, क्रिया योग शरीर के विभिन्न अंगों को शुद्ध करके रोगों से लड़ने की क्षमता को भी बढ़ाता है।

क्रिया योग के प्रकार

क्रिया योग कई प्रकार की होती है, जो निम्नलिखित हैं:

बाह्य क्रिया

यह क्रिया योग के प्रथम और मुख्य प्रकारों में से एक है और इसमें शरीर के बाहरी अंगों को सक्रिय किया जाता है। यह आसनों, ध्यान, और प्राणायाम जैसी विभिन्न क्रियाएँ शामिल करता है।

आंतरिक क्रिया

इस प्रकार के क्रिया योग में, मानसिक और आंतरिक शक्तियों को सक्रिय किया जाता है। यह मुद्राएँ, बंध, और मन्त्र-जाप जैसे विभिन्न तकनीकों से संपन्न होता है।

क्रिया योग के लाभ

क्रिया योग के अनेक लाभ हैं जो हमें शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक दृष्टिकोन से समृद्धि प्रदान करते हैं।

शारीरिक लाभ

  • शारीरिक गतिविधियों का संतुलन सुधारने से शारीर की लचीलाता बढ़ती है।
  • मांसपेशियों को मजबूत बनाने से शारीर की शक्ति बढ़ती है।
  • स्पिनल कॉर्ड को मजबूत करने से पीठ दर्द से राहत मिलती है।

मानसिक लाभ

  • क्रिया योग में ध्यान करने से मन की शांति मिलती है और तनाव कम होता है।
  • नियमित अभ्यास से ध्यान की क्षमता बढ़ती है जो सकारात्मक सोचने की क्षमता को बढ़ाता है।
  • मानसिक चिंताओं को दूर करने से आत्मविश्वास मजबूत होता है।

आध्यात्मिक लाभ

  • आंतरिक शक्तियों के सक्रिय होने से आध्यात्मिक उन्नति होती है।
  • साधक को अपने आंतरिक असीमित पोषण स्रोत के प्रति जागृत करता है।
  • चक्रों के संतुलन को सुधारकर आत्मा के साथ मिलन का अनुभव होता है।

नियमितता का महत्व

क्रिया योग के लिए नियमित अभ्यास करना बहुत महत्वपूर्ण है। धीरे-धीरे अभ्यास करने से हमारी योग्यता बढ़ती है और हम अपने उद्देश्यों को प्राप्त करने में सफलता प्राप्त करते हैं। नियमितता से हमारा ध्यान और धारणा शक्ति मजबूत होती है जो हमें अधिक सक्रिय और अनुभवशील बनाती है।

संधि: शरीर और मन का मिलन

क्रिया योग एक ऐसा माध्यम है जो हमें शरीर और मन के मिलन का अनुभव कराता है। इसमें ध्यान के माध्यम से हम अपने अंतरंग असीमित स्थानों का अनुसरण करते हैं और अपने आंतरिक पोषण स्रोत से जुड़ते हैं। यह हमें अपने आपसे और अपने परिवार से मिलवाता है और हमारे जीवन में सकारात्मकता और समृद्धि का अनुभव करवाता है।

समापन

क्रिया योग एक शक्तिशाली और प्रभावशाली तकनीक है जो हमें शारीरिक, मानसिक, और आध्यात्मिक स्तर पर सकारात्मकता की दिशा में ले जाती है। नियमित अभ्यास के माध्यम से हम अपने जीवन में उच्च स्तर पर समृद्धि को प्राप्त कर सकते हैं और सार्वभौमिक शांति का अनुभव कर सकते हैं।

1. क्रिया योग क्या है?

क्रिया योग एक विशेष तकनीक है जिसमें शरीर और मन को सक्रिय करने का काम किया जाता है। यह योग के एक प्रकार के रूप में जाना जाता है जो शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक स्तर पर सकारात्मकता को प्रोत्साहित करता है।

2. क्रिया योग के क्या लाभ हैं?

क्रिया योग के अनेक लाभ हैं, जैसे कि शारीरिक गतिविधियों का संतुलन सुधारना, मानसिक चिंताओं को कम करना, और आध्यात्मिक उन्नति प्राप्त करना। इसके अलावा, यह शारीर को रोगों से लड़ने की क्षमता में भी सुधार करता है।

3. क्रिया योग कैसे किया जाता है?

क्रिया योग को नियमित रूप से अभ्यास करने के लिए ध्यान की आवश्यकता होती है। व्यायाम, आसन, प्राणायाम, और मुद्राएँ इसमें शामिल हो सकते हैं। ध्यान के माध्यम से अपने शरीर और मन को सक्रिय करने के लिए नियमित अभ्यास करें।

4. क्रिया योग का अभ्यास किस समय करें?

क्रिया योग का अभ्यास किसी भी समय कर सकते हैं, लेकिन सबसे अधिक लाभ पाने के लिए सुबह या शांत और चिंता मुक्त स्थिति में करना उत्तम है। सुबह उठते ही क्रिया योग का अभ्यास करने से दिन की शुरुआत उत्तेजित और प्रसन्न होती है।

5. क्रिया योग को किस तरह से अपने जीवन में शामिल करें?

क्रिया योग को अपने जीवन में शामिल करने के लिए धैर्य और निरंतरता से अभ्यास करना आवश्यक है। नियमित अभ्यास के साथ ही स्वस्थ और सात्विक आहार और शांत मनोवृत्ति भी रखने से यह अभ्यास आपके जीवन को सकारात्मकता और समृद्धि की दिशा में बढ़ाएगा।

Leave a Comment